वेडिंग प्‍लानर बैंड, बाजा और करियर

weddingयों तो वेडिंग प्लानर के लिये भी आजकल कई कोर्स होने लगे है लेकिन मैनेजमेंट की बेसिक समझ रखने वाले भी इस काम को आसानी से अंजाम दे सकता हैं. हां इस काम के लिए सबसे जरूरी है इनोवेटिव दिमाग और क्रिएटिविटी. शादी का सारा काम ही सेलिब्रेशन का है ऐसे में जो वेडिंग प्लानर जितना नए नए आईडिया के साथ आयेगा उसका काम उतना ही बढेगा. अगर विधिवत ट्रेनिंग लेकर ही इस काम में आना चाहते हैं तो इवेंट मैनेजमेंट की डिग्री या डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं.

कई बड़े संस्थान इसी सम्बंधित कोर्स करवाते हैं. अगर काम की बात करें तो शादी के शुरुआत से ख़तम होने तक का सारा इन्तेजामात वेडिंग प्लानर का होता है. इसमें शादी में खाने के मेन्यू, डीजे की बुकिंग, फूलों की सजावट, टेंट वाले का इन्तेजाम, सजावट की थीम, कारीगरों से कोर्डिनेट करना, बिजली, जनरेटर, पानी से लेकर बैंड बाजा आदि काम आते हैं. इसे एक तरह का इवेंट मैनेजमेंट भी कह सकते हैं. कुल मिलाकर एक सादी शादी को यादगार रंगों से सजाने का काम वेडिंग प्लानर काम ही होता है.

सफल वेडिंग प्लानर बनने के गुर के बारे में दिल्ली के अर्जुन नगर में वी अरेंज वेडिंग नाम से इस काम को कर रहे प्रवीण अरोरा बताते हैं कि इस काम में पैसों की कमी नहीं है. जब हमने काम शुरू किया था तब आज जैसा ट्रेंड नहीं था, कोई कोई ही शादी के लिए वेडिंग प्लानर से संपर्क करता था, लेकिन जब एक बार काम देख लेता था तो  अच्छा पैसा देता था. अब लोग ज्यादा बिजी हैं लिहाजा हर काम वेडिंग प्लानर पर छोड़ देते हैं जिससे इस काम में डिमांड ज्यादा बढ़ गयी गई.

शादी का सीजन आते ही काम काफी बढ़ जाता है. एक शादी में जगह और क्लाइंट के हिसाब से पचास हजार से दो ढाई लाख के बीच मिल जाता है. काम भले ही थोडा सिरदर्दी का लगे लेकिन सही कोर्डिनेशन की बदौलत मुशिकल नहीं आती. आज तो शादी को लेकर भव्यता का पैमाना काफी बड़ा हो चुका है. हर कोई अपनी शादी लार्जर दैन लाइफ तरीके से करना चाहता है इसलिए हमारी भूमिक और भी महत्वपूर्ण हो जाती है. हालांकि वेडिंग प्लानर बनने से पहले कुछ चीजों पर पकड़ बना जरूरी होते है मसलन सभी कास्ट कौर कल्चर की बारीकियों को समझना, रस्मों में जरूरत आने वाला सामान, फोटोग्राफर , वीडियो शूटिंग,  कोरियोग्राफी का सही मैनेजमेंट और प्रेजेटेंशन की तैयारी आदि.

आज सिर्फ शादी ही कमाई का जरिया नहीं. बल्कि किसी का जन्मदिन प्लान करना, शादी की वर्षगांठ का आयोजन, किट्टी पार्टी, ऑफिस के वार्षिक कार्यक्रम जैसे कई मौकों पर वेडिंग प्लानर ही इवेंट मैनेज करने का काम करते हैं. साथ ही फैशन शो, म्यूजिकल कॉन्सर्ट, कॉर्पोरेट सेमिनार, एग्जिबिशन, थीम पार्टी,  प्रोडक्ट लॉन्चिग में भी आप काम कर सकते हैं. इन सब कामों में भी अच्छा पैसा मिलता है. इंडिया में इस इंडस्ट्री की भले ही शुरुआत हो लेकिन इसका आकार तेजी से बढेगा. जिस तरह से विदेशी ट्रडिशनल वेडिंग में रूचि दिखा रहे हैं उसे देखकर कहा जा सकता ही कि इसमें पैसे कमाने की असीम संभावनाएं हैं.

देश के कई प्रमुख संस्थानों में इवेंट मैनेजमेंट से संबंधित प्रमुख कोर्स डिप्लोमा इन इवेंट मैनजमेंट,  पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन इवेंट मैनेजमेंट और इवेंट मैनेजमेंट में सर्टिफिकेट कोर्स होते हैं. अगर आप अपना बिजनेस खोलना चाहती हैं तो पहले आप किसी वेडिंग इंडस्ट्री में नौकरी करें. इससे आपके तजुर्बे के साथसाथ संपर्क भी बनेंगे. अपने क्लाइंट बनाने के लिए बिजनेस कार्ड या ब्रोशर ब्राइडल शॉप, फ्लोरिस्ट, फोटोग्राफर आदि के पास भी रखें ताकि वे भी आपकी सर्विस के बारे में औरों को बता सकें. इसके अलावा अपनी सर्विस की मार्केटिंग करने के लिए विज्ञापन, नेटवर्किंग या इंटरनेट के जरिए भी कर सकती हैं.

यदि ट्रेडिशनल कोर्स से जुदा करने की इच्छा है तो इवेंट मैनेजमेंट का कोर्स करके वेडिंग प्लानर बन सकते हैं. इस फील्ड के एक्सपर्ट मानते हैं कि वेडिंग प्लानिंग का क्रेज कुछ ज्यादा ही है. हालाँकि भारत में इवेंट मैनेजमेंट के बढते दायरे को देखते हुए सरकार ने भी नेशनल इंस्टीटयूट ऑफ इवेंट मैनेजमेंट इंस्टीटयूट की शुरुआत की है. इन तमाम कोर्सों के तहत इवेंट प्लानिंग, बजट, रिस्क कवरेज, लॉजिस्टिक्स, पब्लिक रिलेशन, कम्युनिकेशन स्किल आदि की बारे में ट्रेनिंग दी जाती है.

अलग अलग सेमेस्टर में व्यवहारिक ज्ञान भी दिया जाता है.  कई संस्थान तो क्षत्रों को मैनेजमेंट कंपनियों में भी प्रशिक्षण के लिए भी भेजती है. इसका  फायदा यह होता है कि छात्र को नौभाव के साथसाथ बाजार की भी समझ बढ़ती है. अगर इजन तमाम कोर्सों की बार करें तो यह संस्थानों पर नित्र्भर करता है. अगर डिप्लोमा सर्टिफिकेट कोर्स कर रहे इन तो फीस कम होगे अपेक्षाकृत स्नातक या पेगी कोर्स के. फिर भी इस तरह के कोर्स 15 हजार से शुरू होकर 1 से 2 लाख के बीच किये जा सकते है. जैसा कि पहले भी बताया कि कोर्स करना फायदेमंद है लेकिन इअसा भी नहीं है कि इनके बिना आप वेडिंग प्लानर बन नहीं सकते है. बस ने जरूरत है अपने अन्दर एक जूनून और ज़ज्बे की. 

कहाँ ले दाखिला

  • इवेंट मैनेजमेंट डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट, मुंबई
  • इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इवेंट मैनेजमेंट, मुंबई
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इवेंट मैनेजमेंट, दिल्ली
  • यूनिवर्सिटी ऑफ पुणे, पुणे
  • नेशनल स्कूल ऑफ इवेंट, इंदौर
  • एमिटी इंस्टीटयूट ऑफ इवेंट मैनेजमेंट,दिल्ली
  • इंटरनेशनल इंस्टीटयूट ऑफ इवेंट मैनेजमेंट, मुंबई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.