नहीं रहे विनोद खन्ना …. लेकिन शो मस्ट गो ऑन

vinod khannaअजीब संयोग है की अभिनेता विनोद खन्ना का निधन हो गया और  उनकी एक फिल्म भी रिलीज की राह पर है. इसे ही कहते है कि शो मस्ट गो औं. एक अभिनेता अपने सिनेमा के जरिये हमेशा जिन्दा रहता है. बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता विनाद खन्ना का आज लंबी बिमारी के चलते 70 साल की उम् में निधन हो गया। उन्होंने मुंबई के एक अस्पताल में आज अंतिम सांसे ली।
खन्ना को बीते 31 मार्च को मुंबई स्थित सर एच एन रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हालांकि, अस्पताल की ओर से यही कहा गया था कि खन्ना के शरीर में पानी की कमी हो गई है। विनोद खन्ना के दो बेटे अक्षय खन्ना और राहुल खन्ना हैं, जो बॉलिवुड में सक्रिय हैं।
 गुरदासपुर से बीजेपी सांसद विनोद खन्ना काफी समय से कैंसर से जुझ रहे थे।
जल्द ही उनकी और हेमा मालिनी की फिल्म एक थी रानी ऐसी भी रिलीज होगी.
विनोद खन्ना का जन्म एक व्यापारिक परिवार में 6 अक्टूबर,1946 को पेशावर में हुआ था। उनका परिवार अगले साल 1947 में हुए भारत-पाक विभाजन के बाद पेशावर से मुंबई आ गया था। उनके माता-पिता का नाम कमला और किशनचंद खन्ना था। 1960 के बाद की उनकी स्कूली शिक्षा नासिक के एक बोर्डिग स्कूल में हुई वहीं उन्होने सिद्धेहम कॉलेज से वाणिज्य में स्नातक किया था।
उन्होंने अपने फ़िल्मी सफर की शुरूआत 1968 मे आई फिल्म “मन का मीत” से की जिसमें उन्होने एक खलनायक का अभिनय किया था। कई फिल्मों में उल्लेखनीय सहायक और खलनायक के किरदार निभाने के बाद 1971 में उनकी पहली एकल हीरो वाली फिल्म हम तुम और वो आई। कुछ वर्ष के फिल्मी सन्यास, जिसके दौरान वे आचार्य रजनीश के अनुयायी बन गए थे, के बाद उन्होने अपनी दूसरी फिल्मी पारी भी सफलतापूर्वक खेली और अभी तक भी फिल्मों में सक्रिय हैं।
वर्ष 1997 और 1999 में वे दो बार पंजाब के गुरदासपुर क्षेत्र से भाजपा की ओर से सांसद चुने गए। 2002 में वे संस्कृति और पर्यटन के केन्द्रिय मंत्री भी रहे। सिर्फ 6 माह पश्चात् ही उनको अति महत्वपूर्ण विदेश मामलों के मंत्रालय में राज्य मंत्री बना दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.