वरदाह आज पहुंचेगा चेन्नई, NDRF की टीमें तैयार, एयरफोर्स भी अलर्ट

tsunamiभीषण चक्रवाती तूफान ‘वरदा’ के सोमवार दोपहर यहां पहुंचने की संभावना है और चेन्नई समेत तमिलनाडु के तटीय जिलों में बहुत तेज हवाएं चलीं तथा भारी बारिश हुई है। मौसम विज्ञान विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि वरदा चेन्नई से 220 किलोमीटर पूर्व-पूर्वोत्तर एवं नेल्लोर से 290 किलोमीटर पूर्व-दक्षिणपूर्व में है। वहीं, चक्रवात वरदा के दक्षिणी तट पर पहुंचने की आशंका के मद्देनजर आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और पुड्डुचेरी में हाई अलर्ट घोषित किया गया है और एनडीआरएफ के दल मुस्तैद हो गए हैं। चेन्नई समेत तमिलनाडु के तटीय जिलों में बहुत तेज हवाएं चल रही हैं तथा भारी बारिश हो रही है।

Also Read:- 500 बैंको का pm मोदी ने कराया स्टिंग

वरदा से निपटने के लिए तमिलनाडु में एनडीआरएफ की 7 और आंध्र प्रदेश में 6 टीमें भेजी गई हैं। वरदा के प्रभाव के कारण फिलहाल चेन्नै के कई इलाकों में बारिश हो रही है। यह बारिश अगले एक दिन होने की संभावना है। हालांकि दोनों ही तटीय राज्यों ने इससे निपटने के लिए कई उपाय किए हैं ओर तमिलनाडु ने चार जिलों में सभी शैक्षणिक संस्थानों में छुटि्टयों की घोषणा कर दी है। इसको लेकर सेना, नौसेना, वायुसेना और तट रक्षक को हाई अलर्ट पर रखा गया है। चेन्‍नई जाने वाले 50 उड़ानें देर या डायवर्ट कर दी गई हैं।

Also Read:- इस देश ने दिए 100 के नोट को बंद करने के आदेश : नोटबंदी

अधिकारी ने कहा कि इस प्रणाली के तकरीबन पश्चिम की ओर बढने और उत्तरी तमिलनाडु एवं आंध्र प्रदेश के निकटवर्ती दक्षिणी तटों की ओर बढ़ते हुए धीरे धीरे कमजोर होने की संभावना है। उन्होंने कहा कि इसके उत्तरी तमिलनाडु एवं चेन्नई के आसपास आंध्र प्रदेश के दक्षिणी तटों से 12 दिसंबर 2016 की दोपहर के बाद एक चक्रवाती तूफान के रूप में 80 से 90 किलोमीटर प्रति घंटे से लेकर 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार वाली तेज हवाओं के गुजरने की संभावना है। चेन्नई, तिरूवल्लूर एवं कांचीपुरम जिलों में सुबह से भारी बारिश हो रही है और इन जिलों में तेज हवाएं भी चल रही हैं। इन इलाकों के कई हिस्सों में एहतियातन विद्युत आपूर्ति बंद कर दी गई है।

थल सेना, नौसेना एवं वायु सेना के साथ सशस्त्र बलों को भी तैयार रहने को कहा गया है ताकि कभी भी आवश्यकता पड़ने पर उन्हें तैनात किया जा सके।
सरकार की विभिन्न इकाइयां किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना की स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं। हालांकि निचले इलाकों के लोगों को सुरक्षित क्षेत्रों में जाने को कहा गया है। हवाईअड्डा अधिकारियों ने कहा कि विमान सेवाएं सामान्य रूप से संचालित हो रही हैं। चक्रवाती तूफान 13 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से बढ़ रहा है। चक्रवात वरदा के दक्षिणी तट पर पहुंचने की आशंका के मद्देनजर आंध्र प्रदेश एवं तमिलनाडु में हाई अलर्ट घोषित किया गया है और एनडीआरएफ के दल मुस्तैद हो गए हैं। अधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बंगाल की खाड़ी के तट के पास आंध्र प्रदेश एवं तमिलनाडु में अलर्ट घोषित किया गया है।

प्रशासन की ओर से जारी की गई चेतावनी में कहा गया है कि यह तूफान इलाके में अगले 12 घंटे तक तबाही मचा सकता है। तूफान की वजह से आंध्र प्रदेश के छह जिलों मे भारी बारिश होने के आसार हैं। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने रविवार शाम कलेक्टरों और शीर्ष अधिकारियों के साथ टेलीकांफ्रेंस के जरिए हालात की समीक्षा की। उन्होंने उन्हें अलर्ट रहने और जरूरी राहत एवं बचाव कार्य करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि पयार्प्त मात्रा में भोजन और अन्य आवश्यक वस्तुएं तैयार रखी जाएं।

नायडू ने अधिकारियों को कहा कि जान को नुकसान और फसल एवं संपत्ति को नुकमान कम करने के लिए हर कदम उठाए जाएं। तमिलनाडु सरकार की विज्ञप्ति के मुताबिक निचले और जोखिम वाले इलाकों से लोगों को निकालने के लिए बंदोबस्त करने के निर्देश दिए गए हैं। आवाश्यक भोजन, पानी और अन्य बंदोबस्त के साथ राहत केंद्रों को तैयार रखा जाएगा। आवश्यकतानुसार सेना, नौसेना, वायुसेना और तट रक्षक को अलर्ट रखा गया है। तमिलनाडु सरकार ने लोगों से भारी बारिश के दौरान घरों में रहने को कहा है।

विज्ञप्ति के मुताबिक एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, दमकल और रेसक्यू सेवाओं के कर्मियों को पहले ही तैयार रहने की स्थिति में रख दिया गया है और जरूरत के मुताबिक उनका फौरन उपयोग किया जाएगा।

तमिलनाडु सरकार ने विल्लपुरम के तटीय तालुकों के अलावा चेन्नई, कांचीपुरम और तिरूवल्लूर में शैक्षणिक संस्थानों में छुटि्टयां घोषित कर दी है। एनडीआरएफ के महानिदेशक आरके पचनंदा ने भी अपने बयान में यह कहा है कि वरदा तूफान से निपटने के लिए एनडीआरएफ की ओर से पूरी तैयारी कर ली गई है।

चक्रवातीय तूफान ‘वरदा’ सोमवार को उत्तर तमिलनाडु और दक्षिण आंध्र प्रदेश के बीच के इलाके को अपनी चपेट में लेगा। हालांकि दोनों ही तटीय राज्यों ने इससे निपटने के लिए कई उपाय किए हैं ओर तमिलनाडु ने चार जिलों में सभी शैक्षणिक संस्थानों में छुट्टियों की घोषणा कर दी है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बंगाल की खाड़ी से लगे समूचे आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु में अलर्ट जारी कर दिया गया है। क्षेत्रीय मौसम केंद्र ने बताया कि वरदा रविवार को दोपहर ढाई बजे चेन्नई से 330 किलोमीटर पूर्व में केंद्रित था और यह सोमवार दोपहर उत्तर तमिलनाडु और दक्षिण आंध्र प्रदेश को अपनी चपेट में लेने से पहले पश्चिम की ओर बढ़ेगा।

मछुआरों को अगले 48 घंटों में समंदर में नहीं उतरने को कहा गया है। मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेलवम ने तमिलनाडु राज्य आपदा प्रबंध प्राधिकारण की एक बैठक की जिसने सशस्त्र बलों से भी तैयार रहने को कहा। तमिलनाडु सरकार ने विल्लपुरम के तटीय तालुकों के अलावा चेन्नई, कांचीपुरम और तिरूवल्लूर में शैक्षणिक संस्थानों में छुट्टियां घोषित कर दी है। तमिलनाडु सरकार ने लोगों से भारी बारिश के दौरान घरों में रहने को कहा है।

विज्ञप्ति के मुताबिक एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, दमकल और रेसक्यू सेवाओं के कर्मियों को पहले ही तैयार रहने की स्थिति में रख दिया गया है और जरूरत के मुताबिक उनका फौरन उपयोग किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.