भारतरत्न उस्‍ताद बिस्‍मिल्‍लाह खां के घर से पांच शहनाइयां चोरी

ustad bismillah khan popularized this instrumentभारतरत्न उस्‍ताद बिस्‍मिल्‍लाह खां के शहनाइयां चौक थानाक्षेत्र के घुंघरानी गली स्थित पुश्तैनी आवास से चोरी हुई हैं. चोरी गई शहनाइयों को बड़े बक्से में रजाई-गद्दों के अंदर छिपाकर रखा गया था. जो शहनाइयां चोरी गई हैं, वह उन्हें कई समारोह में भेंट की गई थीं. रविवार की रात साढ़े बारह बजे उस्ताद के बेटे काजिम ने इसकी प्राथमिकी दर्ज कराई. सोमवार सुबह डॉग स्क्वॉड के साथ पुलिस टीम घर पहुंची और अभी मामले की जांच-पड़ताल करने में जुटी है. एसएसपी नितिन तिवारी ने बताया कि मामले में अज्ञात के खिलाफ चोरी का मुकदमा दर्ज कर पुलिस मामले की जांच कर रही है.

शहनाई के सरताज उस्ताद बिस्मिल्लाह खान के बेटे कासिम हुसैन ने कहा की, ‘अब्बा की चोरी गई शहनाइयों में चार शहनाइयां चांदी की और एक शहनाई मोहर्रम की पांचवीं और छठवीं तारीख को बजाई जाने वाली ऐतिहासिक लकड़ी की थी. चांदी की शहनाइयों में से एक पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव, दूसरी बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव, तीसरी पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल और चौथी चांदी की शहनाई शैलेश भगत ने उपहार में दी थी.’ काजिम के मुताबिक यह शहनाइयां अब्बू की अमानत थी.

काजिम ने बताया कि वह घुंघरानी गली वाले मकान पर ताला लगाकर तीन नवंबर को बीकाशाह स्थित दूसरे मकान पर चले गए थे. रविवार देर शाम को जब घर पहुंचे तो ताला खुला हुआ था. घर के अंदर जाने पर बड़े बक्सा का ताला टूटने के साथ उसमें रखीं पांचों शहनाइयां गायब थीं. शहनाई के साथ सोने के दो कंगन और इनाम में मिली एक चांदी की तश्तरी भी गायब है. गौरतलब है उस्ताद के पांच बेटों में से महताब हुसैन, नैयर हुसैन का इंतकाल हो चुका है. जामिन हुसैन, नाजिम हुसैन व काजिम हुसैन अब्बू की विरासत को सहेजने में जुटे हैं. काजिम और नाजिम में अनबन की बात कई बार सामने आ चुकी है. उस्ताद की शहनाई काजिम अपने घर पर रखे थे.
भारत रत्न उस्ताद बिस्मिल्लाह खां की धरोहरों पर चोरों की नजर पहले से लगी है. दो साल पहले भी उस्ताद की रियाजी शहनाई गायब हो गई थी. इस शहनाई से रोज सबेरे गंगा के तट पर उस्ताद रियाज किया करते थे. ताउम्र उस्ताद इस शहनाई को अपने सिरहाने ही रखकर सोते थे. इस शहनाई का आज तक पता नहीं चला है. उस्ताद की शहनाई और उनकी संपत्ति को लेकर बेटों में लंबे समय से चल रहे विवाद को भी इससे जोड़कर देखा जा रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.