मंदसौर में किसान आंदोलन में तीन की मौत, शहर में लगा कर्फ्यू

kisan andolanमध्य प्रदेश में किसान कर्ज माफी सहित कई मांगें को लेकर जारी किसान आंदोलन में हिंसा का दौर थम नहीं रहा है। मंगलवार को इंदौर के मंदसौर में आंदोलनकारियों ने 8 ट्रक और 2 बाइक को आग के हवाले कर दिया। पुलिस और सीआरपीएफ पर पथराव भी किया। हालत पर काबू पाने के लिए सीआरपीएफ की फायरिंग में तीन लोगों की मौत हो गई जबकि दो घायल हो गए। इसके बाद शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया।

एमपी के होम मिनिस्टर भूपेंद्र सिंह ने कहा कि पुलिस या सीआरपीएफ की तरफ से कोई फायरिंग नहीं हुई। राहुल गांधी ने कहा कि सरकार देश के किसानों के साथ युद्ध लड़ रही है। बता दें कि किसान कर्ज माफी समेत कई मांगें कर रहे हैं। एक धड़े का सरकार से समझौता हो चुका है लेकिन इसके बावजूद हिंसा जारी है। रतलाम में रविवार को पथराव में एक एसआई की आंख फूट गई थी।

मंगलवार को मंदसौर-नीमच रोड पर करीब एक हजार किसानों ने चक्काजाम कर दिया। इसके बाद 8 ट्रकों और 2 बाइकों में आग लगा दी। पुलिस और सीआरपीएफ ने हालात संभालने की कोशिश की। लेकिन, भीड़ ने पथराव शुरू कर दिया। इसके बाद फायरिंग की गई। इसमें दो लोगों की मौत हो गई जबकि दो घायल हुए। मारे गए लोगों के नाम कन्हैयालाल पाटीदार निवासी चिलोद पिपलिया एवं बंटी पाटीदार निवासी टकरावद है। मंदसौर में सोमवार से ही इंटरनेट पर रोक लगा दी गई है। फायरिंग के बाद जिला कलेक्टर ने पहले धारा 144 लगाई और इसके बाद कर्फ्यू लगा दिया।

मंदसौर की घटना पर शिवराज सिंह चौहान ने ज्युडिशियल इन्क्वॉयरी के ऑर्डर दिए हैं। सीएम ने किया मारे गए लोगों की फैमिली को 5-5 लाख और घायलों को एक लाख रुपए की मदद का एलान किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.