गोरक्षा के नाम पर किसी की हत्‍या स्‍वीकार नहीं : पीएम मोदी

Narendra Modi spins Charkha in Sabarmati Ashramसाबरमती आश्रम शताब्दी समारोह को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस साल हम साबरमती आश्रम की स्थापना के 100 साल पूरे होने का जश्न मनाने जा रहे हैं, चंपारण सत्याग्रह के भी 100 साल पूरे हो रहे हैं. अगर हमने गांधी को विश्व की शांति के लिए मसीहा के रूप में जन-मन तक स्थिर करने में सफलता पायी होती तो यूनाइटेड नेशन का जनरल जो भी बनता तो वह सबसे पहले साबरमती आश्रम आता और विश्व शांति के लिए प्रेरणा लेकर गांधी की तपोभूमि से लेकर जाता.

पीएम मोदी ने कहा कि महात्मा गांधी से मिलने बड़ी-बड़ी हस्तियां आती थीं, लेकिन दुनिया का कोई भी व्यक्तित्व गांधी को प्रभावित नहीं कर पाया. गांधी को दुनिया की कोई हस्ती प्रभावित नहीं कर पायी लेकिन राजचंद्र जी ने गांधी को अपने व्यक्तित्व में समेट लिया. श्रीमद् राजचंद्र जी के जीवन और विचारों पर और अकादमिक शोध किया जाना चाहिए.

पीएम मोदी ने कहा कि अभी मैं नीदरलैंड्स गया, मुझे नई जानकारियां मिलीं, भारत के बाद दुनिया में सबसे अधिक मार्गों के नाम गांधी के नाम पर कहीं हैं तो नीदरलैंड्स में हैं. उन्होंने कहा कि स्वच्छता हम सबके स्वभाव में आ जाए, इससे बड़ी श्रद्धांजलि बापू को नहीं दी जा सकती है. गांधी कहते थे कि आजादी और स्वच्छता में मेरी प्राथमिकता स्वच्छता होगी, स्वच्छता का अभियान 2019 तक हर हिंदुस्तानी का स्वभाव बनना चाहिए, स्वच्छता हमारी रगों में, हमारे आचार-विचार में हर जगह होनी चाहिए.

उन्होंने कहा कि मैं राजनीति में बहुत देर से आया हूं, जवानी का लंबा समय आदिवासियों के बीच काम करने में बीता, राजनीति में आया फिर भी यह विचार नहीं था कि इस राह पर आना है, संगठन के लिए काम करता था. हर जनप्रतिनिधि को ‘वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड़ पराई जाने रे’ में रास्ता साफ मिल जाएगा.

भीड़ की हिंसा पर पीएम मोदी ने सख्‍त सवाल किया. उन्होंने पूछा कि क्या किसी को मारना गोरक्षा है? हमारी धरती अहिंसा की धरती है, हमारी जन्मभूमि महात्मा गांधी की जन्मभूमि है, हम यह कैसे भूल सकते हैं. पीएम ने अपने संबोधन के दौरान कहा कि इस देश में किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने का अधिकार नहीं है. हिंसा से आज तक कभी किसी समस्या का समाधान नहीं हुआ और ना ही आगे होगा.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.