NGT की फटकार के बाद सरकार ने मांगा 2 हफ्ते का वक्त

Delhi-Pollutionगैस चैम्बर बनी दिल्ली में नेशनल ग्रीम ट्रिब्यूनल (एनजीटी) की फटकार के बाद दिल्ली सरकार हरकत में आई है. शनिवार को दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन भलस्वा डंपिग ग्राउंड पहुंचे हैं. प्रदूषण को देखते हुए सरकार ने अगले तीन दिन तक एमसीडी के सभी स्कूलों को बंद रखने के निर्देश दिए हैं. दीपावली में छूटने वाले पटाखों से होने वाले प्रदूषण ने पूरी दिल्ली को अपने चपेट में ले लिया है. पूरी दिल्ली और आसपास के इलाके में स्मॉग का कहर है. स्मोक और फॉग ने मिलकर कुछ ऐसा कहर ढाया है कि छोटे बच्चों के स्कूल बंद करने के आदेश दिए जा रहे हैं. इसलिए सरकार ने स्कूलों को बंद रखने का निर्देश दिया है.

स्कूलों में मास्क पहनकर आने का निर्देश
दिल्ली और एनसीआर के श्री राम स्कूल ने तो पहले ही सोमवार तक स्कूल बंद करने के आदेश दे दिए थे. दिल्ली का हेरिटेज स्कूल ने जहां अपने स्कूलों को बंद करने का निर्णय लिया है, वहीं टैगोर इंटरनेशनल स्कूल ने अपना स्पोर्ट्स डे नवंबर से आगे बढ़ा कर फरवरी कर दिया है. एमिटी स्कूल ने अपने सारे स्टूडेंट्स को मास्क पहन कर आने के लिए कहा है.

सरकार ने मांगा 2 हफ्ते का वक्त
दीवाली के बाद से प्रदूषण से बेहाल राजधानी धुंआ-धुंआ हो गई है और राजधानी इसी धुएं में सांस लेने पर मजबूर है. सरकार भी प्रदूषण पर सिर्फ चिंता जता रही है. सरकार ने सड़को की वैक्युम क्लीनिंग की बात कही है, लेकिन इन सारी कवायद के लिए सरकार ने 2 हफ्ते का समय मांगा है. सवाल ये है कि आखिर प्रदूषण के इस भयानक हालात में भी सरकार को समाधान के लिए समय चाहिए.

कहां-कितना है प्रदूषण?
अगर विशेषज्ञों की माने तो, प्रदूषण के इस चरण पर ये सारी कवायद कारगर साबित नहीं हो सकती. अलग अलग इलाकों में नापे गए प्रदूषण लेवल सामान्य से बहुत ज्यादा हैं. अब ऐसे में हालात सुधरने के बजाए और बिगड़ते चले जा रहे हैं. आनंद विहार में पीएम 10 1488 दर्ज़ किया गया जो सामान्य से 15 गुना ज्यादा है. पंजाबी बाग में पीएम 10, 9 गुना ज्यादा और पीएम 2.5, 13 गुना ज्यादा दर्ज किया गया. आर के पुरम में भी पीएम10, 10 गुना ज्यादा और पीएम 2.5, 11 गुना ज्यादा दर्ज किया गया.

क्या है दिल्ली सरकार का पक्ष?
दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सतेंदर जैन कहते हैं कि प्रदूषण रात में सबसे अधिक होता है. स्कूलों को बंद कर देना समाधान नहीं है. इस बीच चीन की राजधानी बीजिंग ने भी बढ़ते प्रदूषण के मद्देनजर अपने स्कूल बंद करने का निर्णय लिया है. बढ़ते प्रदूषण पर रोक लगाने के लिए वे कई कारखाने भी बंद करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.