एलआईसी ने साइरस मिस्त्री के कार्यकाल के दौरान टाटा समूह की कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी घटाई

TATA-LICदेश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) ने साइरस मिस्त्री के कार्यकाल के दौरान टाटा समूह की सूचीबद्ध कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी घटाई है। एलआईसी का इन कंपनियों में अच्छा-खासा हिस्सा है। शेयर बाजारों को भेजे गए आंकड़ों के अनुसार एलआईसी ने दिसंबर 2012 में जब साइरस मिस्त्री ने समूह की कमान संभाली, टाटा की कई अग्रणी कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी में कमी की। जिन कंपनियों में ज्यादा कमी की गई, उनमें टाटा एलेक्सी (526 आधार अंक), टाटा कम्युनिकेशंस (412 अंक) और इंडियन होटल्स (401 अंक) शामिल हैं।
इसी अवधि में एलआईसी ने टाटा ग्लोबल में अपनी हिस्सेदारी 249 आधार अंक बढ़ाई जबकि टाटा मोटर्स में 22 आधार अंक, टाटा पावर में 14 और टीसीएस में 2 आधार अंक की मामूली बढ़ोतरी की। सूत्रों का कहना है कि टाटा-मिस्त्री विवाद में एलआईसी संभवत: अंतरिम चेयरमैन रतन टाटा का समर्थन कर सकती है। आमतौर पर जब भी कारोबारी घरानों में विवाद होते हैं, तो एलआईसी संस्थापकों या प्रमोटरों का पक्ष लेती रही है। रतन टाटा ने 28 अक्टूबर को एलआईसी के कार्यवाहक अध्यक्ष वी के शर्मा से मुलाकात की थी।
आंकड़ों के अनुसार जुलाई-सितंबर तिमाही के दौरान भी एलआईसी टाटा समूह की 11 में से 6 कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी में कटौती की है। एलआईसी के पास टाटा समूह की विभिन्न सूचीबद्ध कंपनियों में 30,000 करोड़ रुपये से अधिक कीमत के शेयर हैं। एलआईसी के एक फंड प्रबंधक के अनुसार शेयरों की बिकवाली कंपनी की लंबी अवधि की निवेश रणनीति का हिस्सा थी।

 

फंड प्रबंधक ने कहा, ‘शेयर बाजारों के लिए यह बहुत अच्छा समय नहीं था। वर्ष 2013 में सेंसेक्स ने महज 8 फीसदी का रिटर्न दिया और गिरावट के दौरान कई टाटा कंपनियों के शेयरों में गिरावट आई। उसी हिसाब से एलआईसी ने कदम उठाया।’ इस बारे में एलआईसी को भेजे गए ईमेल का कोई जवाब नहीं मिला। विशेषज्ञों का कहना है कि संस्थागत निवेशक आमतौर पर निवेश करते समय नेतृत्व को महत्त्व देते हैं। हालांकि भावी प्रदर्शन, बाजार की स्थितियों और वित्तीय आंकड़ों जैसे दूसरे कई अन्य कारकों को भी महत्त्व दिया जाता है।
हालांकि एलआईसी ने टाटा समूह की कंपनियों के शेयर तो बेचे, मगर पिछले चार साल में इनका प्रदर्शन बाजार से बेहतर ही रहा है। उदाहरण के लिए, टाटा मोटर्स 2012 के बाद से 150 प्रतिशत से अधिक जबकि टीसीएस 96 फीसदी चढ़ा है। इंडियन होटल्स 110 फीसदी बढ़ा है। एकमात्र अपवाद टाटा स्टील है जिसने कोई रिटर्न नहीं दिया। संयोग से मिस्त्री ने भी अपने पत्र में समूह के शेयरों के शानदार प्रदर्शन का जिक्र किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.