जिग्‍नेश मेवाणी ने रोक के बावजूद संसद मार्ग पर की हुंकार रैली

 

Jignesh-Mewani-hunkar-rallyदेश की राजधानी दिल्‍ली के संसद मार्ग पर पुलिस के रोकने के बावजूद गुजरात के विधायक जिग्‍नेश मेवाणी और उनके समर्थक ने युवा हुंकार रैली की। पुलिस ने नैशनल ग्रीन ट्राइब्‍यूनल रैली के आदेशों का हवाला देते हुए रैली की इजाजत देने से इनकार कर दिया था। लेकिन रैली के आयोजक और‍ जिग्‍नेश रैली करने पर अड़े रहे। आयोजन स्‍थल पर काफी संख्‍या में जिग्‍नेश के समर्थक मौजूद हैं। इस रैली में यूपी की भीम आर्मी के समर्थक भी पहुंचे हैं। जिनके हाथों में अपने नेता चंद्रशेखर की तस्‍वीरें हैं।

जिग्‍नेश मेवाणी की युवा हुंकार रैली को रोकने के‍ लिए पुलिस ने यहां भारी संख्‍या में पुलिसबल तैनात किए हुए है। पुलिस की ओर से कहा गया था कि यहां आयोजन की इजाजत नहीं दी गई है। लेकिन इसके बावजूद कार्यक्रम का शुरू होना पुलिस के रुख पर सवाल खड़े कर रहा है। जिग्‍नेश ने मीडिया से बातचीत में कहा कि उनकी रैली को रोकना दुर्भाग्‍यपूर्ण है। हम सिर्फ लोकतांत्रिक और शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन करने जा रहे हैं। सरकार हमें निशाना बना रही है। एक चुने हुए जनप्रतिनिधि को बोलने से रोका जा रहा है।

दरअसल रैली के आयोजन को लेकर विवाद उसी दिन से शुरू हो गया था जब से इसकी घोषणा की गई थी। एक आयोजक और जेएनयू छात्र संघ के अध्‍यक्ष मोहित कुमार पांडेय ने कहा कि 2 जनवरी को रैली की घोषणा किए जाने के बाद से मेवाणी को एक देशद्रोही और शहरी नक्‍सली बताने वाले पोस्‍टरों पर बहुत सारा पैसा खर्च किया गया है।

The way corruption, poverty, unemployment and the real issues are being swept under the carpet and ghar wapasi, love jihad and cows are being given space, we stand against that: Jignesh Mewani at Yuva Hunkar rally in #Delhi pic.twitter.com/2FcSJg99eR

बता दें कि पुणे के भीमा-कोरेगांव में हुई हिंसा और उसके बाद हुए बवाल को लेकर जिग्नेश मेवाणी पर भड़काऊ भाषण देने का केस दर्ज किया गया है। इसे लेकर मेवाणी ने दिल्ली में हुंकार रैली करने का ऐलान करते हुए कहा था कि वह एक हाथ में मनुस्मृति और एक हाथ में संविधान की प्रति लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय जाएंगे और पीएम मोदी से कहेंगे कि वह दोनों में से किसी एक को चुनें। मेवाणी ने कहा था कि गुजरात में 150 सीटों का दम भरने वाली बीजेपी 99 पर सिमट गई, इसलिए उन्हें निशाना बनाया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.