बुजुर्गों के लिए नर्क बनता भारत

agedजहाँ भारत में बुजुर्गो की सुरख्षा को लेकर  सिर्फ कागजी क़ानून है वहीँ विदेशों में खासकर अमेरिका,ब्रिटेन और यूरोप के देशों में रिटायरमेंट के साथ ही बुजुर्गों के घरों पर वे तमाम तरह की सहूलियतें दी जाती है, जो उनकी सुरक्षा के लिए जरूरी है. भले सीढ़ियों से उतरने और बाथरूम्स में रैलिंग या हैंडिल का मामला हो या फिर उनके घरों को पुलिस केंद्रों से फोन के जरिए सीधे जोड़ना. बुजुर्गों को हर मदद तत्काल मिलती है.

अक्टूबर 2015, मध्य प्रदेश के उमरिया जिले के ग्राम बड़ेरी में बेटे ने दौलत की खातिर माँ और मामा के साथ मिलकर अपने ही पिता की हत्या कर डाली. अक्टूबर 2015, शहडोल के पाली थाना के औढेरा गांव में एक युवक अपनी पत्नी को पीट रहा था. उसी दौरान उसका बेटा वहां पहुंच गया और पिता को रोकना चाहा, लेकिन जब पिता ने माना तो उसने पिता पर लाठी से वार कर दिया. जिससे उसकी मौत हो गई. सितम्बर 2015, जशपुरनगर जिले के दुलदुला थाना क्षेत्र के बांसपतरा टीपन टोली में 25 सितंबर को संतोष राम पिता रतिराम के साथ गांव से शराब पीकर घर पहुंचे.

नशे में धुत्त दोनों मां-बेटे के बीच किसी बात को लेकर विवाद हो गया. गुस्साए संतोष राम ओनी माँ धनमेत बाई पर लाठी से वार कर उसे मौत के घाट उतार दिया. 2 सितम्बर 2015 को हरियाणा के रोहतक में परिजनों की रोकटोक से नाराज बेटे ने दोस्तों के साथ मिलकर मां की गला घोंटकर हत्या की और पिता पर भी धारदार हथियारों से हमला किया. सभी आरोपी नाबालिग.  मई 2015, मुजफ्फरनगर के शामली जिले में एक व्यक्ति ने जमीन नहीं बेचने पर अपने मां-बाप की हत्या कर दी. बेटे ने बिना पुलिस को सूचित किए मां-बाप का अंतिम संस्कार कर दिया और लोगों को बताया कि दोनों ने आत्महत्या कर ली.

बुजुर्गो पर अत्याचार लिहाज से देश के 24 शहरों में तमिलनाडु का मदुरई सबसे ऊपर है, जबकि उत्तरप्रदेश का कानपुर का नंबर दूसरा है। मदुरई में 63 फीसदी और कानपुर के 60 फीसदी बुजुर्ग अत्याचार का शिकार हो रहे..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.