मैम्मा कोर कैन असिस्ट ब्रेस्ट- स्तन परीक्षण सुविधा

breast-cancerस्तन कैंसर का सबसे ज्ञात मामला 3500 साल पहले दर्ज किया गया था। सिर्फ 200 साल पहले ही शोधकर्ताओं को यह पता चला कि स्तन कैंसर में फैलने और पुनरावृत्ति करने की क्षमता होती है। केवल एक दशक पहले, हमने स्तन कैंसर की पुनरावृत्ति के जोखिम पर नज़र रखना और किसी मरीज के उपचार के तरीके की योजना बनाने के लिए इस जानकारी का उपयोग करना शुरू किया। कैंसर के इलाज के विकास और बीमारी के बारे में समझ बढ़ने के कारण, कैंसर चिकित्सा विज्ञानी अब यह समझ चुके हैं कि कैंसर के सभी रोगियों के लिए एक ही प्रकार का उपचार करने का दृष्टिकोण उचित नहीं है। कार्सिनोमा के द्वारा प्रदर्षित स्तन कैंसर की पुनरावृत्ति पैटर्न, उनके प्रसार की प्रवृत्ति और व्यक्ति दर व्यक्ति इसकी पुनरावृत्ति में अंतर होता है। इस समझ ने कैंसर के व्यक्तिगत उपचार के एक नए युग की शुरुआत की है।

भविश्य की व्यक्तिगत उपचार योजना दवा और अभिनव परीक्षण है जिनकी आने वाले दिनों में परम आवश्यकता होगी। ओंकोस्टेम डायग्नोस्टिक्स ने कोर डायग्नोस्टिक्स के सहयोग से एक सरल, सुलभ, सस्ता और प्रमाणित परीक्षण षुरू किया है जो सामान्य सवाल का जवाब पाने में मदद करता है, जैसे – ‘‘क्या इस मरीज को कीमोथेरेपी की जरूरत है?“

बेंगलुरु स्थित ओंकोलाॅजी पर केंद्रित स्टार्टअप – ओंकोस्टेम डायग्नोस्टिक्स ने प्रारंभिक चरण के स्तन कैंसर के रोगियों में कैंसर की पुनरावृत्ति के खतरे का निर्धारण करने में मदद करने के लिए भारत का स्वदेषी तौर पर विकसित पहला और अभिनव परीक्षण – मैम्मा कोर कैन असिस्ट- ब्रेस्ट को वितरित करने के लिए अपने विषेश पार्टनर के रूप में कोर डायग्नोस्टिक्स के साथ करार किया है। परीक्षण को पहले और दूसरे चरण के स्तन कैंसर रोगियों – ईआर $ / पीआर $ / हर 2 के लिए बनाया गया है।

Also read : नीम्बू प्रदूषण से शरीर को होने वाले नुकसान से बचाता है

किसी भी कैंसर का सबसे खतरनाक पहलू होता है उसका दोबारा होना। भारत में, हर साल करीब 150,000 मरीजों का इलाज किया जाता है। कैंसर के लगभग सभी मरीजों की सर्जरी की जाती है, जबकि कीमोथेरेपी (सीटी) और रेडियोथेरेपी (आरटी) केवल उन रोगियों के लिए सिफारिष की जाती है जिनमें ’पुनरावृत्ति का अधिक खतरा’ होता है।

कोर डायग्नोस्टिक्स की संस्थापक और प्रबंध निदेषक जोया बराड़ ने कहा, “अभी कैंसर की पुनरावृत्ति के खतरे की ’भविष्यवाणी’ करने वाला कोई परीक्षण उपलब्ध नहीं है। 95 प्रतिषत रोगियों का इलाज कीमो या रेडियोथेरेपी से किया जाता है लेकिन प्रारंभिक चरण के सिर्फ करीब 20 प्रतिषत रोगियों में इसकी वास्तव में पुनरावृत्ति होती है। इस प्रकार, काफी अधिक संख्या में रोगियों का जरूरत से अधिक इलाज किया जाता है और उन्हें उपचार के विशैले प्रभाव को सहन करना पड़ता है जो उनके जीवन की गुणवत्ता को कम कर देता है और इससे पैसे की भी बर्बादी होती है। यह परीक्षण पुनरावृत्ति के खतरे की पहचान कर चिकित्सकों को उपचार की योजना बनाने में मदद कर जरूरत से अधिक उपचार के बोझ को कम करने में मदद करेगा। हम इस उत्पाद की शक्ति को लेकर काफी उत्साहित हैं और इससे दुनिया भर में स्तन कैंसर के उपचार के भविष्य को संशोधित करने में मदद मिलने की उम्मीद है।’’

“कैन असिस्ट- ब्रेस्ट परीक्षण एक अच्छी तरह से मानकीकृत तकनीक के द्वारा परीक्षण किये हुए 5 नये बायोमार्करों के साथ संयोजन में क्लिनिकल मापदंडों का उपयोग करता है जो प्रोटीन की अभिव्यक्ति को सटीक तरीके से मापता है और फिर उन्हें पुनरावृत्ति के लिए ‘‘कम या अधिक’’ खतरे के रूप में रोगियों को विभाजित करने के लिए उन्हें एक सांख्यिकीय एल्गोरिथ्म में एकीकृत करता है। इस प्रकार, कैन असिस्ट- ब्रेस्ट परीक्षण का उपयोग कर, चिकित्सक मरीजों के लिए व्यक्तिगत और इष्टतम चिकित्सा योजना बना सकते हैं। कैन असिस्ट- ब्रेस्ट परीक्षण हर साल भारत में, 60,000 से अधिक स्तन कैंसर के रोगियों और दुनिया भर में में 660,000 से अधिक रोगियों को कीमोथेरेपी से जुड़े गंभीर विषाक्त प्रभावों और खर्चों से निजात दिलायेगा। कोर डायग्नोस्टिक्स के साथ हमारी भागीदारी से इस परीक्षण को देश भर में अधिक लोगों को उपलब्ध कराने में मदद मिलेगी।’’

कोर डायग्नोस्टिक्स रोग स्तरीकरण और चिकित्सा चयन के आधुनिकतम तरीकों पर केंद्रित नैदानिक प्रयोगशाला है। कंपनी का मूल प्रयास सबसे उन्नत परीक्षण तकनीक और विशेषज्ञता को भारत लाने पर केंद्रित है और जो भारत के उच्च परिणाम वाली नैदानिक की जरूरत के लिए आवष्यक है।

Also read : छोटे बच्चों को सर्दियों में बीमार होने से बचाएँ

कोर डायग्नोस्टिक्स सही मायने में अपने तरह का एकमात्र केन्द्र है। इसका कारण यह है कि कोर डायग्नोस्टिक्स की विषेशताओं में उच्च परिणाम वाले परीक्षण, पैथोलाजिस्टों के वैष्विक पैनल द्वारा हर परीक्षण पर सेकेंड ओपियिन के साथ-साथ बहुत कम समय में परिणाम षामिल है। कंपनी फिलहाल कार्डियोलॉजी, ऑन्कोलॉजी, प्रजनन संबंधी विकार, इंडोक्राइनोलाॅजी और संक्रामक रोगों के क्षेत्र में जांच सुविधाएं प्रदान कर रही है।

2011 में डॉ. मंजिरी बाक्रे द्वारा स्थापित, ओंकोस्टेम डायग्नोटिक्स कैंसर विज्ञान पर केंद्रित निदान कंपनी है जिसका मुख्यालय बेंगलूर में है। ओकोस्टेम की स्थापना विषिश्ट चिकित्सा क्षेत्र में उच्च गुणवत्ता, सटीक, अभिनव, प्रोगनाॅस्टिक एवं भविश्य के परीक्षण कहलाने वाली परीक्षण सुविधाएं विकसित करने के उद्देष्य से की गई थी ताकि ओंकोलाॅजी चिकित्सा- निदान के क्षेत्र में प्रमुख आवष्यकता की पूर्ति हो सके। ओंकोस्टेम प्रोटीयोमिक्स एवं जीनोमिक्स आधारित प्लेटफार्मों तथा गहरे वैज्ञानिक ज्ञान के इस्तेमाल के साथ ट्यूमर के आण्विक फिंगरप्रिंट पर आधारित कैंसर की पुनरावृति का पूर्वानुमान करता है जो एक अद्वितीय तरीका है।

ओंकोस्टेम डायग्नोस्टिक्स अपनी कार्य प्रक्रियाओं में मजबूत, अंतरराष्ट्रीय मानक वाली गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली को बरकरार रखता है। यह आईएसओ1 5189/एनएबीएल से मान्यता प्राप्त प्रयोगशाला है। कैन असिस्ट ब्रेस्ट आईएसओ 13485 मान्यता प्राप्त है। ओंकोस्टेम का ध्यान विभिन्न तरह के कैंसर के लिए ऐसे  परीक्षणों को विकसित करने पर है जिनमें मुंह के कैंसर एवं कोलोन कैंसर भी षामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.