किसान कर सकेंगें 500 अौर 1000 के पुराने नोटो का प्रयोग

old currencyआम आदमी के लिए 500 और 1000 के रुपये के पुराने नोट बंद होने के बाद दिक्कतों का सामना कर रहे पर सरकार ने किसानो के परिशानी को ध्यान में रखते हुये आज यह फैसला किया कि रबी फसल की बुवाई करने वाले किसान अब 500 रुपये के पुराने नोट से बीज खरीद सकेंगे।

पुराने नोट से बीज केंद्र सरकार, राज्य सरकार, सार्वजनिक उपक्रमों, राष्ट्रीय व राज्य बीज निगम के केंद्रों और केंद्रीय तथा राज्य कृषि विश्र्वविद्यालयों के केंद्रों से खरीदा जा सकेगा।

साथ ही रिजर्व बैंक ने कर्ज क्रॉप लोन, होम लोन, कार लोन सहित एक करोड़ रुपये से कम लोन को चुका रहे लोगों को बड़ी राहत देते हुए भुगतान के लिए 60 दिन का अतिरिक्त समय दिया है। एक नवंबर से 31 दिसंबर के बीच चुकाए जाने वाले लोन पर यह नियम लागू होगा।

Read also : 10 रुपये के सिक्को पर इनकम टैक्स विभाग और RBI के इन फैसलों को अनदेखा न करें

वित्त मंत्रालय ने किसानों को राहत देने वाले उपाय की घोषणा करते हुए कहा कि सरकार ने रबी फसल के लिए किसान अपना पहचान पत्र दिखाकर केंद्र सरकार, राज्य सरकारें, राष्ट्रीय या राज्य बीज निगम, केंद्रीय और राज्य कृषि विश्र्वविद्यालयों के बीज बिक्री केंद्रों से बीज खरीद सकेंगे।

इससे पहले सरकार 17 नवंबर को किसानों को नकदी उपलब्ध कराने के लिए हर सप्ताह 25,000 रुपये उनके बैंक खातों से निकालने की अनुमति दे चुकी है। मंत्रालय ने कहा कि सरकार किसानों को रबी फसल के दौरान उचित सहायता देने को प्रतिबद्ध है।कर्ज चुकाने को दो माह की मोहलतइधर रिजर्व बैंक ने कार लोन, होम लोन, क्रॉप लोन सहित एक करोड़ रुपये से कम का कर्ज ले चुके लोगों को बड़ी राहत देते हुए उन्हें कर्ज के भुगतान के लिए अतिरिक्त 60 दिन की अनुमति दे दी है।

Read also : डॉलर के मुकाबले 5 महीने के निचले स्तर पर भाव, रुपया 68 के पार

यह सुविधा 01 नवंबर से 31 दिसंबर के बीच चुकाए जाने वाले लोन पर लागू होगी। आरबीआइ के अनुसार किसी भी बैंक के साथ एक करोड़ रुपये या कम के की सीमा के कार्यकारी पूंजी खातों के संबंध में यह सुविधा उपलब्ध होगी। बैंकों के साथ-साथ नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियां (एमएफआइ) को भी यह सुविधा मिलेगी। आरबीआइ ने कहा कि यह छूट सिर्फ निर्धारित अवधि के लिए ही दी गयी जायेगी.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.