छिछोरी बातें करते हैं मोदी-मायावती

maywatoनोटों की माला संबंधी मोदी के बयान पर मायावती ने तीखा हमला किया। कहा कि प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठकर नरेंद्र मोदी छिछोरी बातें करते हैं। विचाराधारा के आधार पर आलोचना होनी चाहिए। लेकिन बीजेपी के नेता और प्रधानमंत्री व्यक्तिगत आरोप लगाते हैं। मेरे खिलाफ कुछ नहीं मिलता तो नोटों की माला का गुणगान करते रहते हैं। इनके नेता नोटों की माला पहनते हैं तो ठीक, लेकिन एक दलित की बेटी ने पहन ली तो इन्हें हजम नहीं होता। यह सबको पता है कि मेरी नोटों की माला कालेधन से नहीं बल्कि कार्यकर्ताओं ने अपने पसीने की कमाई से पहनाई थी।

केंद्र सरकार ने किया ‘भारत बंद’

मायावती ने नरेंद्र मोदी के भाषण को ‘थोथा चना, बाजे घना’ करार देते हुए कहा कि रैली में उन्होंने बौखलाहट भरा भाषण दिया। वह सिर्फ अपने अधकचरे फैसले पर सफाई दे रहे थे। मायावती ने कहा कि बीएसपी हर कड़े फैसले का स्वागत करती है, लेकिन कालेधन पर अंकुश की आड़ में जनता को खुले आसमान के नीचे लाकर खड़ा कर दिया गया। देश की जनता को बड़ी सामूहिक सजा दी गई है। व्यवसाय को ठप करके केंद्र की बीजेपी सरकार ने ‘भारत बंद का आयोजन’ किया है।

50 दिनों का इंतजार ‘जख्मों पर नमक’

मायावती ने कहा कि मोदी सरकार से अच्छे दिनों की उम्मीद लगाए बैठे लोगों को इतने बुरे दिनों की उम्मीद कतई नहीं थी। अब 50 दिनों के इंतजार की बात करना लोगों के जख्मों पर नमक छिड़कने जैसा है। वह कहते हैं कि 10 महीने से तैयारी चल रही थी। यदि ऐसा होता तो जनता इतना परेशान नहीं होती। यदि 10 महीने से नोट छप रहे थे तो वो कहां हैं? एटीएम खराब पड़े हैं या उनमें पैसा नहीं है। कहा कि संसद के सत्र में नोटबंदी के फैसले पर उनकी पार्टी संपूर्ण विपक्ष के साथ होगी।

अमीरों के लिए पहले ही व्यवस्था कर दी

नींद की गोलियां खाने के मोदी के बयान पर मायावती ने कहा कि अमीर तो चैन की नींद सो रहे हैं। उनके लिए तो पहले ही पैसे की व्यवस्था कर दी गई थी। हकीकत यह है कि गरीब लोग धक्के खा रहे हैं या भूखे-प्यासे रहकर उन्हें ही नींद की गोली खाकर सोना पड़ रहा है। मोदी ने लोगों से कहा था कि 100 दिन में 15-20 लाख रुपये उनके खाते में आ जाएगा। लोगों ने इसी बहकावे में आकर वोट दे दिया।

अलग राज्य बनाने से होगा विकास

पूर्वांचल के विकास की बात पर मायावती ने एक बार फिर से चार अलग-अलग राज्यों का मुद्दा उठाया। कहा कि पूर्वांचल की जनता को स्थाई विकास चाहिए। स्थाई विकास अलग पूर्वांचल बनाने से होगा। हमारी सरकार ने विधानसभा में यह पास कराके केंद्र को भेजा था। उस समय कांग्रेस की सरकार और अब बीजेपी सरकार ने उसे ठंडे बस्ते में डाल कर रखा है।

चुनाव में देना होगा ढाई साल का हिसाब

मायावती ने कहा कि यूपी के चुनाव में जनता केंद्र की मोदी सरकार से विकास के वादों का भी हिसाब मांगेगी। ढाई साल से गहरी नींद सोने के बाद अब विधानसभा चुनाव के समय शिलान्यास और घोषणाएं करने की याद आई है। अब शिलान्यास का नहीं, बल्कि ढाई साल का हिसाब देने का वक्त है। उसके बाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.