राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने गिनाईं मोदी सरकार की उपलब्धियां, संसद के बजट सत्र का आगाज

President of india Budget Session 2017राष्ट्रपति के अभिभाषण के साथ ही संसद के बजट सत्र का आगाज हो चुका है। राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने अपने अभिभाषण में नरेंद्र मोदी सरकार की उपलब्धियों का बखान किया। सरकार के हर तबके को फायदा पहुंचाने वाली केंद्र सरकार की योजनाओं का जिक्र करते हुए कहा कि उनकी सरकार ‘सबका साथ, सबका विकास’ चाहती है। राष्ट्रपति ने पाक अधिकृत कश्मीर में भारतीय सेना की ओर से की गई सर्जिकल स्ट्राइक की भी प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार गरीब, दलित, पीड़ित, शोषित, वंचित, किसान, युवा के लिए लगातार काम कर रही है। जनधन योजना का जिक्र करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि इसके जरिए गरीबों को बैंकिंग व्यवस्था से जोड़ा गया। इसके तहत 26 करोड़ से ज्यादा बैंक खाते खोले गए और 20 करोड़ से ज्यादा रुपे कार्ड जारी किए गए।

राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने कहा कि सरकार ने 13 करोड़ लोगों को विभिन्न सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का सीधा फायदा हुआ है। उन्होंने कहा कि 1 लाख से ज्यादा बैंक मित्रों की नियुक्ति की गई है। उन्होंने कहा कि जिन लोगों को बैंकों से फंड नहीं मिलता था उन्हें उनके छोटे रोजगार के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना शुरू की गई है। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के लिए 2 लाख करोड़ रुपये स्वीकृत किए गए। इस योजना के तहत 5.6 करोड़ लोन्स को मंजूरी दी गई। राष्ट्रपति ने अपने अभिभाषण में दीनदयाल अंत्योदय योजना का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत स्वयंसहायता समूहों को 16 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा रकम मुहैया कराई गई। इंद्रधनुष टीकाकरण अभियान का जिक्र करते हुए कहा कि इसके तहत 55 लाख बच्चों को टीका लगाया गया है।

स्वच्छ भारत अभियान का जिक्र करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि इसके तहत 3 करोड़ से ज्यादा टॉइलट्स बनाए जा चुके हैं। स्वच्छ भारत मिशन जन आंदोलन का रूप ले चुका है। अब तक 1,4 लाख गांव, 450 शहर और 77 जिले स्वच्छ हो चुके हैं। लकड़ी के चूल्हों से मुक्ति के लिए प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना शुरू की गई है जिसका लाभ लेने वालों में 37 प्रतिशत एससी-एसटी वर्ग से हैं। इस योजना के तहत 1.5 करोड़ लोगों को एलपीजी कनेक्शन दिया गया है। उन्होंने यह भी बताया कि 1.2 करोड़ ग्राहकों ने अपनी मर्जी से एलपीजी सब्सिडी छोड़ दी है।

अब तक जिन गांवों में बिजली नहीं पहुंची है वहां बिजली पहुंचाने के लिए ग्राम ज्योति योजना शुरू की गई है। ग्राम ज्योति योजना के तहत रेकॉर्ड समय में 11 हजार से ज्यादा गांवों में बिजली पहुंचाई गई। उन्होंने कहा कि छोटो उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए 2 लाख करोड़ रुपये दिए गए। केंद्र सरकार को किसान हितैषी बताते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि 1.7 लाख हेक्टेयर जमीन को सिंचाई व्यवस्था के तहत लाया गया। उन्होंने कहा कि किसानों को फसल की सही कीमत दिलवाई गई, 3.66 करोड़ किसानों को फसल बीमा की सुविधा दी गई।

राष्ट्रपति ने कहा कि उनकी सरकार का जोर महिलाओं, युवाओं, गरीबों, अल्पसंख्यकों, किसानों, मजदूरों समेत समाज के सभी तबकों के विकास पर है। उन्होंने कहा कि ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान के उत्साहजनक परिणाम आ रहे हैं। सुकन्या समृद्धि योजना के तहत 1 करोड़ खाते खुले, जिसमें 11 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा राशि जमा की गई। इसके अलावा सुरक्षित मातृत्व योजना के तहत मातृत्व अवकाश को 12 सप्ताह से बढ़ाकर 26 सप्ताह किया गया।

राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने देश की युवा शक्ति का जिक्र करते हुए कहा कि देश की 65 प्रतिशत आबादी 35 साल से कम उम्र की है। सरकार ने हर हाथ को हुनर योजना के तहत युवाओं को कौशल प्रदान करने के लिए कई कदम उठाए हैं। प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत अगले चार सालों में 1 करोड़ युवाओं को स्किल्ड बनाने का लक्ष्य है। 20 लाख युवाओं को नैशनल अप्रैंटिस का लाभ मिला है। कौशल विकास के लिए 50 इंडिया इंटरनैशनल स्किल सेंटर खोले गए हैं।

राष्ट्रपति ने कहा कि श्रमेव जयते में हमारी सरकार का गहरा विश्वास है। पीएमकेवीआई के तहत 24 लाख युवाओं को ट्रेनिंग दी गई है। वेतन और पेंशनभोगियों के हित में उठाए गए कदमों का जिक्र करते हुए कहा कि 55 लाख लोगों को यूनिवर्सल अकाउंट नंबर दिया गया। इसके जरिए पीएफ की राशि ट्रांसफर करवा सकते हैं। इसके अलावा 7वें वेतन आयोग से 50 लाख एंप्लॉयी और 35 लाख पेंशनधारियों को फायदा मिला है।
सीनियर सिटिजन को 10 साल के जमा पर 8 प्रतिशत का ब्याज मिलता रहेगा। उन्होंने स्टैंडअप इंडिया का भी जिक्र किया। स्टैंड अप इंडिया के तहत 2.5 लाख एससी-एसटी महिला-पुरुष आंट्रप्रन्योर को मदद करने का लक्ष्य रखा गया है।

राष्ट्रपति ने खेती और किसानों के फायदे के लिए केंद्र सरकार की तरफ से उठाए गए कदमों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि किसानों के लिए सॉइल हेल्थ कार्ड योजना शुरू की गई है जिससे किसान मिट्टी के हिसाब से सर्वोत्तम फसल बो सकें और खाद का इस्तेमाल कर सकें। 6.6 करोड़ किसानों का बीमा किया गया। किसानों को क्रेडिट कार्ड दिए। खरीफ पैदावार में 6 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है।

सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का जिक्र करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि उनकी सरकार दिव्यांग जनों को समान अवसर दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है। सरकारी नौकरियों में दिव्यांग जनों के लिए रिजर्वेशन को 3 से 4 प्रतिशत बढ़ा दिया गया है। खाली पदों को भरने का काम तेजी से चल रहा है, अब तक 6 लाख दिव्यांग लाभान्वित हो चुके हैं। सार्वजनिक जगहों तक दिव्यांगों की आसान पहुंच के लिए सुगम्य भारत अभियान शुरू किया गया है।

राष्ट्रपति मुखर्जी ने अल्पसंख्यकों के कल्याण के लिए सरकार की लाई योजनाओं का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि स्कोलरशिप, फेलोशिप स्कीम, स्कील डिवेलपमेंट (सीखो और कमाओ, उस्ताद, नई मंजिल) आदि से अल्पसंख्यकों की आमदनी बढ़ेगी। राष्ट्रपति ने इन्फ्रास्ट्रक्चर डिवेलपमेंट की दिशा में उठाए गए सरकार के कदमों के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि रेलवे के आधुनिकीकरण पर 1.2 लाख करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। गांवों में 73000 किलोमीटर सड़कें बनाई गई हैं। गांवों में इंटरनेट पहुंचाने के लिए शुरू किया गया भारतनेट प्रॉजेक्ट 75 हजार ग्राम पंचायतों को कवर करेगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.