सावधान- मेट्रो की खूबसूरत जेबकतरी महिलाओं से

delhi metroदिल्ली मेट्रो में सफर करते वक्त अपने सामान को लेकर कुछ ज्यादा सतर्कता बरतें। दिल्ली मेट्रो की सुरक्षा में लगे CISF ने जो डेटा रिलीज किया है उसमें कई चौंकाने वाले तथ्य हैं। CISF ने बताया कि इस साल अभी तक जेब काटने के मामले, पिछले साल के मुकाबले 3 गुना है।

जनवरी से मई तक के डेटा को देखें तो पॉकेट मारी में 77 फीसदी महिलाएं पकड़ी गई हैं। CISF ने इस पर रोक लगाने के लिए पिछले महीने एक अभियान शुरू किया है।

CISF के डेटा के अनुसार, पकड़े गए 521 पॉकेटमारों में से 401 महिलाएं (77 प्रतिशत) थीं। 148 पॉकेटमारों को यात्रियों की मदद से पकड़ा गया। चोरी पर रोक लगाने के लिए बनी टीम में एक सब-ऑफिसर और एक कॉन्सटेबल होगा जो संदिग्धों पर हर तरह से नजर रखेगा। इनकी मदद के लिए ग्राउंड पर स्टाफ तैयार रहेगा। टीम सादे कपड़ों में होगी जिससे वह लोगों के बीच में रहकर संदिग्धों को धर पाएं।

एक वरिष्ठ CISF अधिकारी ने बताया, ‘स्पेशल टीम हर लाइन पर चोरी रोकने के लिए अभियान चलाती रहेगी। सबसे ज्यादा पॉकेट मारी की घटनाएं चांदनी चौक, शाहदरा, हुडा सिटी सेंटर, कीर्ति नगर, नई दिल्ली और तुगलकाबाद में होती हैं।’

मैं जयपुर से मुंबई गया तो मेरा भी फ़सँ चोरी हो गया था ट्रेन में 4500 रुपय थी उसमें आजतक पछतावा हो रहा है मेरे पास भी महिलाएं बेटी थी.

अफसरों ने बताया कि महिला पॉकेट मार गैंग में काम करते हैं और अधिकतर वह अपने साथ बच्चों को लेकर चलते हैं। जिससे ध्यान बांटा जा सके। एक अफसर ने बताया, ‘लोग बच्चे के साथ सफर कर रही महिला पर शक नहीं करते और इसी का फायदा वे उठाते हैं।’

इस महीने की 2,3 और 4 तारीख को CISF ने 21, 15 और 16 महिलाओं को पकड़ा है। इनसे गोल्ड जूलरी और कैश बरामद किया गया है। आरोपियों को दिल्ली पुलिस के हवाले कर दिया गया है। एक अफसर ने कहा कि जेब कटने की घटना की शिकायत और रिपोर्ट जरूर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.