दुश्मन बैक्टीरिया का ऑटोमेटिक हाईटेक इलाज

bacteria2अग्रणी वैश्विक चिकित्सा प्रौद्योगिकी कंपनी – बीडी (बेक्टन, डिकिन्सन एंड कंपनी) ने बैक्टीरिया की त्वरित पहचान करने और रोगाणुरोधी प्रतिरोध (एएमआर) का पता लगाने के लिए अत्याधुनिक नैदानिक उपकरण का शुभारंभ करने की घोषणा की है। नई बी.डी. फीनिक्सटीएम  एम50 आईडी/एएसटी प्रणाली छोटे से दायरे में ही द लीगेसी बीडी फीनिक्स टीएम 100 की तरह से ही त्वरित, बिल्कुल सटीक एवं सही तथा लागत प्रभावी परीक्षण परिणाम प्रदान करता है। यह प्रणाली अत्यंत विश्वसनीय है और इसके लिए कोई निवारणकारी रखरखाव की आवश्यकता नहीं होती है और यह इसके विकास के दौरान उपयोग में लाई जानी वाली इंजीनियरिंग प्रौद्योगिकियों तथा उन्नत पदार्थों की बदौलत संभव हुआ है।

मध्य एवं दक्षिण एषिया में नैदानिक प्रणालियों के बिजनेस निदेषक नोएल वेंटवर्थ ने कहा, ‘‘बहु प्रतिरोधी जीवाणुओं के प्रसार के कारण स्वास्थ्य देखभाल करने वाले समुदाय के समक्ष अभूतपूर्व चुनौतियां हैं और आज क्लिनिकल माइक्रोबॉयलॉजी प्रयोगषालाओं पर तीव्रता के साथ जीवाणुओं की बिल्कुल सही पहचान बताने तथा रोगाणुरोधी संवेदनशीलता परीक्षण (आईडी/एएसटी) परिणाम प्रदान करने का दवाब बढ़ रहा है ताकि क्लिनिकल निर्णय लिए जा सकें और बेहतर परिणाम सामने आ सके। बीडी फीनिक्स एम 50 प्रणाली भारत में सूक्ष्म जीव विज्ञान प्रयोगशालाओं के लिए एक आकर्षक समाधान है और यह यह रोगाणुरोधी प्रतिरोध के खिलाफ हमारी लड़ाई के प्रति हमारे समर्थन को और ठोस आधार प्रदान करती है।’’

Read also: हेल्‍दी और फिट रहने के लिए सिर्फ एक्‍सरसाइज ही काफी नहीं है

भारत में बीडी के लिए नैदानिक प्रणालियों के बिजनेस निदेषक नीरज रघुवंषी ने कहा, ‘‘एंटी-बायोटिक्स दवाइयों का अत्यधिक इस्तेमाल एक समस्या है। मेडिकल प्रौ़द्योगिकी के इस्तेमाल तथा उनके कारगर अनुप्रयोग के साथ-साथ क्लिनिकल एवं प्रयोगषालाओं के काम-काज में सुधार लाकर ही इस बात को सुनिष्चित किया जा सकता है कि एंटीमाइक्रोबियल्स का समुचित तरीके से प्रयोग होगा तथा मरीजों के लिए खतरे को घटाया जा सकेगा एवं रोग प्रतिरोधकता के कारण होने वाले खर्च को भी घटाया जा सकेगा। एंटीमाइक्रोबियल्स एक खतरा है जिसका समाधान सामूहिक प्रयास से ही हो सकेगा। हमारी प्रोद्योगिकी के षुभारंभ के जरिए हम सार्वजनिक स्वास्थ्य चुनौती के समाधान में सक्रिय भूमिका अदा करना चाहते हैं।’’

बीडी फीनिक्स एम 50 प्रणाली के बारे में:

bacteriaबीडी फीनिक्स टीएम की ओर से उपलब्ध कराई जाने वाली यह नई प्रणाली वर्तमान तथा भावी प्रतिरोधकता का पता लगाने के साथ-साथ विस्तारित परीक्षण क्षमताओं के लिए द लीगेसी फीनिक्स 100 प्रणाली के प्रदर्षित कार्य-कौषल से लाभान्वित है और जो 136 वेल्स के साथ एएसटी पैनल के रूप में उभरी है।

बीडी फीनिक्स एम 50 प्रणाली बीडी इपीसेंटर टीएम मिडिलवेयर कनेक्टिविटी के जरिए बीडी बैकटेक टीएम तथा बीडी ब्रकर टीएम माल्डी बायोटाइपर प्रणालियांे सहित अन्य एनेलाइजरों के साथ अनेक तरह से समायोजित होती है। यह कनेक्टिविटी डेटा ट्रैसेबिलिटी एवं सेक्युरिटी, पेपर रहित कार्य प्रणाली तथा लचीली संचार क्षमताओं को संभव बनाती है ताकि सभी आकार वाले प्रयोगषालाओं के लिए बांछित क्षमताएं प्रदान कर सके। बीडी फीनिक्स एम 50 प्रणाली सूक्ष्म जीवन विज्ञान के क्षेत्र में प्ररिवर्तन लाने के लिए बीडी डायग्नोटिक्स के पोर्टफोलियो में विस्तार करती है।

Read also : ज्यादा स्मोकिंग ही नहीं कम भी है हानिकारक ,स्टाइल नहीं, बुरी लत है

बी.डी. एक वैश्विक चिकित्सा प्रौद्योगिकी कंपनी है जो चिकित्सकीय खोज, निदान तथा चिकित्सा के प्रसार के जरिए स्वास्थ्य की दुनिया को आगे बढ़ा रही है। बीडी मरीजों तथा स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा तथा उन प्रौद्योगिकियों के क्षेत्र में अग्रणी है जो चिकित्सा अनुसंधान तथा क्लिनिकल प्रयोगषालाओं को सक्षम बनाती है। कंपनी उन्नत समाधान प्रदान करती है जो आधुनिक अनुसंधान एवं जिनोमिक्स के विकास में मदद करते हैं, कैंसर तथा संक्रामक रोगों की जांच में सुधार करते हैं, औशधि प्रबंधन में सुधार करते हैं, संक्रमणों की रोकथाम को बढ़ावा देते हैं, षल्य एवं इंटरवेंषनल प्रक्रियाओं से परिपूर्ण बनाते हैं, ष्वसन संबंधी देखभाल में सुधार करते है तथा मधुमेह के प्रबंधन में सहायता करते हैं।

इस कंपनी की दुनिया भर के सगठनों के साथ भागीदारी है ताकि सबसे अधिक चुनौतीपूर्ण वैष्विक स्वास्थ्य समस्याओं में से कई समस्याओं का समाधान किया जा सके। बीडी के पास दुनिया भर में 50 देशों में 45,000 से अधिक एसोसिएट्स हैं जो ग्राहकों एवं भागीदारों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं ताकि परिणामों में सुधार किया जा सके, स्वास्थ्य प्रदान करने के खर्च में कमी लायी जा सके, क्षमताओं में सुधार किया जा सके, स्वास्थ्य संबंधी सुरक्षा में सुधार लाया जा सके तथा स्वास्थ्य की उपलब्धता को बढ़ाया जा सके..

Read also : रोज़ किशमिश का पानी पीने से दूर होगी कब्ज़ की परेशानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.