अमेरिका का दुश्मन नंबर वन : फिदेल कास्त्रो

 carloफिदेल कास्त्रो के बारे मे कुछ अनोखे वाक्या 

  1. अमरीकी ख़ुफ़िया एजेंसी सीआईए ने कम से कम 600 बार इसे मारने की कोशिश की
  2. इतना आतंक था कि अमेरिका की भी इनसे घिग्घी बंद जाती थी
  3. सोवियत संघ को अमेरिका के खिलाफ अपनी सीमा में मिसाइल लगाने की अनुमति दी
  4. फुल्गेंकियो बतिस्ता की तानाशाही को ख़त्म कर दिया था
  5. उनकी बेटी उनके खिलाफ हो गयी और बागी बन गयी

फिदेल कास्त्रो,इस अकेले आदमी ने अमेरिका के हलक में हाथ डालकर सत्ता हासिल की थी.अमरीकी ख़ुफ़िया एजेंसी सीआईए ने कम से कम 600 बार इसे मारने की कोशिश की. शीतयुद्ध के दौरान अमेरिका की हर नीति के ऐसी तैसी करने वाले फिदेल कास्त्रो क्यूबा के क्रांतिकारी नेता और पूर्व राष्ट्रपति के तौर पर जाने जाते हैं.90 साल के इस नेता का निधन हो 26 नवम्बर को निधन हो गया.

करीब10 साल से स्वास्थ्य कारणों से फिदेल सत्ता से दूर थे लेकिन अपने समय में इनका इतना आतंक था कि अमेरिका की भी इनसे घिग्घी बंद जाती थी.1959 से दिसंबर 1976 तक क्यूबा के  पीएम रहे फिदेल के बारे में इतना जान लीजिये कि इन्होने क्यूबा की क्रांति के जरिए ही उसफुल्गेंकियो बतिस्ता की तानाशाही को ख़त्मकर दिया था जो अमेरिका का सहयोगी और सपोर्टर माना जाता था, एक तरह से फिदेल ने अमेरिका के गिरेबान को पकड़ कर उसे धूलचटा दी थी.

फिदेल की पहचान एक मजबूत और सत्ता परिवर्तन करने की क्षमता रखने वाली कम्युनिस्ट नेता की थी. एक समय ऐसा भी आया था जब फिदेल ने शीतयुद्ध के समय सोवियत सेना, जो कि अमेरिका की सबसे बड़ी दुश्मन थी को अमेरिका के खिलाफ अपनी सीमा में मिसाइल लगानी की अनुमति देकर सबको हिला कर रख दिया था.इनको कई बार मारने की भी साजिश की गयी. कहते हैं क्योंकि फिदेल को सिगार पीने का शौक था इसलिए इनके सिगार में विस्फोटक भरकर उन्हें पीने के लिए दी गयी लेकिन फिदेल को तो मौत को चकमा देना आता था. इसलिए वह हर बच जाते और अमेरिका के दुश्मन नंबर वन की पोजीशन पर जमे रहते.

एक समय तक सोवियत संघ की अमेरिका के खिलाफ मदद करने वाले फिदेल के साथ ऐसा भी हुआ जब सोवियत ने उसका साथ छोड़ दिया लेकिन फिदेलमजबूती से सत्ता में जमे रहे. उनसे नाराज सिर्फअमेरिका ही नहीं था बल्कि उनकी बेटी भी थी. एक समय ऐसा भी आया जब उनकी बेटी उनके खिलाफ हो गयी और बागी बन गयी. जाहिर है अमेरिका ने इस मौके का फायदा उठाया और फिदेल की बेटी को अपने यहाँ पनाह दी.

उनके शासन काल में क्यूबा में आमजन के लिए सरकारी सुविधाओं का अम्बारथा. मसलनसबके लिए मुफ़्त चिकित्सा सुविधाएँ, 98 प्रतिशत साक्षरता और क्यूबा में शिशु मृत्यु दर पश्चिमी देशों के मुक़ाबले ख़राब नहीं है.फिदेल कास्त्रो की खासियत यह थी कि एक छोटे से देश के शासकहोने के बावजूद उन्होंने अमेरिका जैसे ताकतवर मुल्क को न सिर्फ अपना दुश्मन बना रखा था बल्कि उन सभी देशों को भी एकजुट कर रखा था जो अमेरिका को अपना दुश्मन समझते थे. वहजब-तब अमरीका को भड़काकर कूटनीतिक लड़ाई में शामिल हो जाते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.